भुखमरी की कगार पर पहुंचा उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरियाई थिंक टैंक ने किया ये दावा

नई दिल्ली। पहले से ही कुपोषण समेत कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे उत्तर कोरिया के सामने एक और गंभीर संकट खड़ा हो गया है। उत्तर कोरिया इन दिनों खाद्यान्न संकट से जूझ रहा है। दक्षिण कोरिया के थिंक टैंक कोरिया डिवेलपमेंट इंस्टिट्यूट ने गुरुवार को बताया कि उत्तर कोरिया में इस समय 1.2 मिलियन टन खाद्यान्न की कमी है। माना जा रहा है कि खाद्यान्न की कमी के चलते उत्तर कोरिया में लाखों लोगों की जान जा सकती है।

उत्तर कोरिया में खाद्यान्न संकट का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लोग राशन खरीदने के लिए अपने घर का सामान तक बेचने को विवश हो रहे हैं। थिंकटैंक का दावा ​है कि उत्तर कोरिया में बीते साल 4 मिलियन टन अनाज का उत्पादन हुआ है। वहीं आबादी के हिसाब से उसे साल में 5.2 मिलियन टन अनाज की जरूरत थी।

Gyan Dairy

इस तरह से देखें तो उसे अपनी 26 मिलियन आबादी का पेट भरने के लिए 1.2 मिलियन टन अनाज की और जरूरत है। बताया जा रहा है कि इस संकट के दौर में दक्षिण कोरिया की ओर से उत्तर कोरिया को मदद की पेशकश की गई है। हालांकि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की सरकार की ओर से अब तक इस पर कोई जवाब नहीं मिल सका है।

Share