मलाला : पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए PAK खुद जिम्मेदार

पाकिस्तान में कथित ईशनिंदा को लेकर एक छात्र की पीट-पीट कर हत्या किए जाने से नाराज मलाला युसूफजई ने कहा कि इस्लाम और देश की छवि धूमिल करने के लिए पाकिस्तानी खुद जिम्मेदार हैं.

न्यूज एजेंसी के मुताबिक यूके बेस्ड पाकिस्तानी एजुकेशन एक्टिविस्ट मलाला (19) ने शनिवार को एक वीडियो मैसेज में कहा, “मुझे मशाल की मौत की जानकारी आज ही मिली। यह घटना आतंक और हिंसा से भरी हुई है। मैंने उसके पिता से बात की जिन्होंने शांति और धैर्य का संदेश दिया। मैं उनके संदेश को सलाम करती हूं।

खबर पख्तूनख्वा के अब्दुल वली खान विश्वविद्यालय से पत्रकारिता की पढ़ाई करने वाले मशाल खान को विश्वविद्यालय के छात्रों की भीड़ ने बेरहमी से पीटा और इसके बाद उसकी गोली मार कर हत्या कर दी. दरअसल, उन लोगों को इस छात्र पर ईशनिंदा करने वाली चीजें इंटरनेट पर डालने और अहमदी संप्रदाय को बढ़ावा देने का शक था

मलाला ने कहा, “पैगंबर हजरत मोहम्मद ने अपने अनुयायियों को धैर्य खोने और लोगों की जान लेने को नहीं कहा था, अगर हम इसी तरह एक-दूसरे की जान लेते रहेंगे तो कोई भी जिंदा नहीं बचेगा। कुछ अनुयायी शांति का संदेश भूल गए हैं, वे अपने धर्म को भी नजरअंदाज कर रहे हैं।” इसलिए मेरा हर किसी को संदेश है कि कृपया आप अपने धर्म, संस्कृति, मूल्य को जाने जिसने हमेशा ही हमें धैर्य की शिक्षा दी है और शांति का संदेश दिया है। आखिर में मैं सभी राजनीतिक पार्टियों, नेताओं और सरकार से शांति और इंसाफ के लिए खड़े होने की अपील करुंगी, मशाल खान के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए खड़े होइए और चुप नहीं बैठिए।

Gyan Dairy

मशाल खान पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रोविंस के मरदान स्थित अब्दुल वली खान यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट था। यूनिवर्सिटी के ही कुछ अन्य स्टूडेंट्स ने कैम्पस में उसकी पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। उसके बाद उसे गोलियां भी मारी गईं। मशाल पर अहमदिया संप्रदाय को बढ़ावा देने और ईशनिंदा करने वाली चीजें इंटरनेट पर डालने का आरोप था।

 

 

Share