UA-128663252-1

किर्गिस्तान में संसद-राष्ट्रपति भवन में तोड़फोड़, संसदीय चुनाव में धांधली का आरोप

नई दिल्ली। किर्गिस्तान में संसदीय चुनाव के नतीजे आने के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है। प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार तड़के देश की संसद पर धावा बोलते हुए सरकार और सुरक्षा मुख्यालय में जमकर तोड़फोड़ की। गुस्साए लोगों ने पूर्व राष्ट्रपति अलमाजबेक अतमबयेव को भी हिरासत से छुड़ा लिया। राष्ट्रपति सूरनबे जीनबेकोव ने इसे विरोधियों द्वारा सत्ता पर अवैध कब्जे की कोशिश बताया है।

प्रदर्शनकारियों की मांग है कि चुनाव नतीजों को रद्द किया जाए। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि चुनाव में वोट खरीदे गए थे जिसके विरोध में आक्रामक प्रदर्शन जारी हैं। केंद्रीय चुनाव आयोग ने मंगलवार को उनके अनुरोध पर विचार करके नतीजों को रद्द कर दिया। प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ हिंसक झड़प भी हुई हैं। इस बीच, पुलिस ने देर रात विरोध प्रदर्शनों को तितर-बितर किया लेकिन प्रदर्शनकारी बिश्केक के सेंट्रल चौराहे पर लौट आए और राष्ट्रपति और संसद भवन की इमारत में तोड़फोड़ कर डाली।

Gyan Dairy

किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक और अन्य शहरों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शनों के बाद केंद्रीय चुनाव आयोग ने संसदीय चुनाव के नतीजे मंगलवार को अमान्य घोषित कर दिए। पिछले रविवार को हुए चुनाव में 16 में से सिर्फ 4 पार्टियों के संसद में जगह बनाने के बाद राष्ट्रपति पर वोटरों को खरीदने व धमकाने के आरोप लगे थे। इन चार पार्टियों में से तीन राष्ट्रपति जीनबेकोव की करीबी हैं।

Share