भारत को चाबहार रेलवे प्रोजेक्ट से बाहर करने की खबरें अफवाह: ईरान

ईरान ने सोमवार को इस बात का खंडन किया कि उसने भारत को चाबहार रेल प्रोजेक्ट से बाहर कर दिया है. माना जा रहा था कि ऐसा ईरान-चीन के बीच होने जा रही 400 अरब डॉलर की डील का असर है. अब ईरान ने ऐसी खबरों का खंडन किया है। ईरान की ओर से बयान जारी कर गया है कि भारत चाबहार जहेदान रेल प्रॉजेक्ट का हिस्सा है.  

ईरान के सड़क- रेल मंत्रालय ने सोमवार को वहां तैनात भारतीय राजदूत गद्दाम धर्मेंद्र को बातचीत के लिए आमंत्रित किया. मंत्रालय के उप-मंत्री सईद रसोली ने भारतीय राजदूत के साथ बैठक करके चाबहार पोर्ट और चाबहार- जाहेदान रेलवे प्रोजेक्ट में सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की. सईद रसोली ने कहा कि चाबहार- जाहेदान रेल प्रोजेक्ट से भारत को बाहर करने की खबरों में कोई सच्चाई नहीं है. कुछ बाहरी शक्तियां इस तरह की गलत रिपोर्ट फैलाकर दोनों मुल्कों में दूरी बढ़ाने की कोशिश कर रही हैं. लेकिन वे इसमें सफल नहीं हो पाएंगी.

बता दें कि पिछले सप्ताह ऐसी रिपोर्ट सामने आई थी जिसमें दावा किया गया था कि हसन रोहानी के नेतृत्व वाली ईरानी सरकार ने भारत को चाबहार- जाहेदान रेलवे प्रोजेक्ट के निर्माण से अलग कर दिया है. रिपोर्ट सामने आने के बाद से भारत में कई तबकों की ओर से इस मसले पर चिंता जताई गई थी. हालांकि भारत या ईरान की ओर से इस मुद्दे पर कुछ भी अधिकृत रूप से नहीं बोला गया.

Gyan Dairy

अब इस मुद्दे पर आपसी गलतफहमी को दूर करने के लिए ईरान ने बातचीत की पहल की. भारत ने चाबहार पोर्ट को जाहेदान शहर तक जोड़ने के लिए रेलवे लाइन बनाने के लिए ईरान से समझौता कर रखा है. भारत इस रेल-पोर्ट प्रोजेक्ट के जरिये अफगानिस्तान और मध्य एशिया के देशों तक अपनी पहुंच बनाना चाहता है.

Share