सऊदी अरब में शनिवार से शुरू होगा पाक महीना ‘रमज़ान’

चांद दिखने के साथ ही मुकद्दस महीना रमज़ान शुरू हो जाएगा। फिलहाल ख़बर है कि सऊदी अरब में रमजान का पाक महीना शनिवार से शुरू होगा। इस हिसाब से देखें तो हिन्दुस्तान में पहला रोज़ा 28 मई से रखा जाएगा।

तौरेत, जुबूर, इंजील और दूसरी आसमानी किताबें भी इसी माह-ए-मुबारक में उतारी गईं। रमजान महीने का कुरान-ए-मुकददस से गहरा रिश्ता है।

इस बार पहला रोजा ही 15 घंटे लंबा होगा। रमजान नौवां महीना है। ये बरकतों और फजीलतों का महीना है। इसी माह-ए-मुबारक में आसमानी किताब कुरआन नाज़िल हुई थी।

माना जाता है कि रमजान के पाक महीने में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं। इसलिए इस माह में किए गए अच्छे कामों का सवाब कई गुना ज्यादा बढ़ जाता है और ऊपर वाला अपने बंदों के अच्छे कामों पर नज़र करता है। उनसे खुश होता है।

Gyan Dairy

हदीस शरीफ में है कि रमजान में ही हजरत मोहम्मद मुस्तफा सल्लललाहो अलैहे वसल्लम अपने सहाबियों के साथ कुरआन-ए-पाक का दौर (एक-दूसरे को कुरआन सुनाना) किया करते थे।

कहते हैं कि माहे रमज़ान में दोज़ख़ यानी नर्क के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं। रमजान में अल्लाह से अपने सभी गुनाहों की माफी मांगी जाती है। महीने भर तौबा के साथ इबादतें की जाती हैं और माहे रमजान में नफिल नमाजों का सवाब फर्ज के बराबर माना जाता है। साथ ही फर्ज़ नमाजों का सवाब बढ़ जाता है।

Share