सरोगेसी इना इन बहनों का फैमिली बिजनेस, कमाती हैं लाखों रुपए

नई दिल्ली। मेक्सिको की हर्नेंडेज सिस्टर्स कोख किराए पर देकर यानी सरोगेसी से हर साल लाखों रुपए कमाती हैं। वे यूरोप के गे कपल्स के लिए बच्चा पैदा करती हैं। इस काम से वे नौ महीने में इतना कमा लेती हैं, जितना उनके भाई 20 साल में नहीं कमा पाए। सरोगेसी करने वाली इन महिलाए मेकिस्को के तबस्को स्टेट में रहती हैं, जहां सरोगेसी इंडस्ट्री का सालाना 870 करोड़ रुपए का मार्केट है। कोख में बच्चा पालने और डिलीवरी के बाद वे 10 दिनों तक ब्रेस्टफीडिंग करवाती हैं और सीक्रेट कपल को उनका बच्चा सौंप देती हैं।

इन महिलाओं के अनुसार इस काम में उन्हें अच्छे पैसे मिलते हैं, जिससे वे अपने बायोलॉजिकल बच्चों को पालती हैं। इसे छोड़ दें तो उन्हें वेश्यावृत्ति या बेहद कम सैलरी वाली वेटर की जॉब करनी पड़ेगी। हर सक्सेसफुल डिलीवरी के लिए सरोगेट मदर को करीब 9 लाख रुपए (10,000 पाउंड) दिए जाते हैं। क्लाइंट नौ महीने तक सरोगेट मदर का पूरी खर्च भी उठाता है। सबसे बड़ी बहन ने 2013 में सरोगेसी बिजनेस शुरू किया था। मिलाग्रोस अलग-अलग पुरुषों से तीन बच्चों की मां है। सबसे पहली सरोगेसी के लिए उसे 10 लाख रुपए (11,000 पाउंड) मिले थे। इसके बाद उसकी छोटी बहन इस बिजनेस में आ गईं।

Gyan Dairy

ज्यादातर क्लाइंट्स बच्चे के लिए एजेंसी के जरिए महिलाओं से कॉन्टेक्ट करते हैं। एजेंसी इसके लिए क्लाइंट्स से 50 लाख रुपए तक लेती है, जिसमें से सरोगेट मदर को करीब 10 लाख रुपए दिए जाते हैं। कई बार क्लाइंट्स के मुकर जाने पर महिलाओं को अबॉर्शन के लिए मजबूर किया जाता है। एजेंसियों की धोखाधड़ी के कारण उन्हें कई बार पेमेंट के लिए भी काफी परेशान होना पड़ता है। यहां हर महीने करीब 200 सरोगेसी केस होते हैं। बच्चे के लिए करीब 35 देशों से लोग यहां की एजेंसियों से अप्रोच करते हैं। क्लाइंट्स एक बच्चे के लिए 30 लाख से 60 लाख तक देने को तैयार करते हैं। पूरा ट्रांजेक्शन कैश में किया जाता है।

Share