उत्‍तर कोरिया में कोरोना का पहला केस सामने आया, किम जोंग ने लगाई इमर्जेंसी

उत्तर कोरिया (North Korea) के तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong-un) ने देश में पहला कोरोना वायरस (Coronavirus) संदिग्ध मिलने के बाद आपात बैठक बुलाई और सीमावर्ती शहर केसोंग में लॉकडाउन लागू करने का फैसला किया।  केसीएनए के अनुसार, जिस शख्‍स के कोविड-19 पॉजिटिव होने का शक है, वह तीन साल पहले दक्षिण कोरिया भाग गया था।    

अगर यह पॉजिटिव केस होता है तो उत्‍तर कोरिया की तरफ से पहली बार देश में कोरोना वायरस की मौजूदगी कबूली जाएगी। नॉर्थ कोरिया अब तक यही कहता आया है कि उसके यहां कोविड-19 महामारी का एक भी मामला नहीं है।

संदिग्‍ध क्‍वारंटीन में, टेस्‍ट कन्‍फर्म नहीं

केसीएनए ने एक बयान में कहा, “केसांग शहर में एक आपातकालीन घटना हुई। एक भगोड़ा जो तीन साल पहले दक्षिण कोरिया चला गया था और जिसके खतरनाक वायरस से ग्रस्‍त होने का शक है, अवैध रूप से बॉर्डर पार कर 19 जुलाई को लौट आया है।” एजेंसी ने यह नहीं बताया कि उस शख्‍स का टेस्‍ट हुआ है या नहीं मगर यह कहा क‍ि ‘कई मेडिकल चेकअप्‍स से एक अनिश्चित नतीजे’ तक पहुंचा गया है। अधिकारियों ने शख्‍स को क्‍वारंटीन कर उसके कॉन्‍ट्रैक्‍ट्स को खोजना शुरू कर दिया है।

Gyan Dairy

लापरवाह सैनिकों को मिलेगी ‘सख्‍त सजा’

उत्‍तर कोरिया ने कोरोना वायरस महामारी फैलने के साथ ही सख्‍ती से बॉर्डर बंद कर दिए थे। रूस और अन्‍य देशों ने उसे हजारों कोरोना वायरस टेस्टिंग किट्स भेजी हैं। वहां पर हजारों लोगों को क्‍वारंटीन किया गया था मगर धीरे-धीरे ढील दे दी गई। किम जोंग ने सेना के उस टुकड़ी की भूमिका की जांच करने के आदेश दिए हैं जहां से यह संदिग्‍ध उत्‍तर कोरिया में घुसा। दोषियों को ‘सख्‍त सजा’ देने का आदेश भी किम ने दिया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share