अमेरिकी सेना अब इराक को भी बोलेगी बाय बाय, इराकी पीएम ने कही ये बात

वाशिंगटन। जो बाइडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद दुनियाभर में फैली अमेरिकी सेना अब अपने वतन लौट जाएगी। इसकी शुरुआत अफगानिस्तान से नाटो और अमेरिकी सेना की वापसी के साथ शुरू हो गई हो गई है। अब आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से लड़ रहे इराक से भी अमेरिकी सेना की वापसी की उल्टी गिनती शुरू हो गई है।

इराक के प्रधानमंत्री मुस्तफा अल-कादिमी ने कहा कि अब इराक को आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट से लड़ने के लिए अब अमेरिकी सेना की आवश्यकता नहीं है। अल-कादिमी ने कहा कि इराक को फिर भी अमेरिका की ट्रेनिंग और मिलिट्री इंटैलिजेंस सर्विसेज की आवश्यकता पड़ेगी। इराक के प्रधानमंत्री ने अपनी वाशिंगटन की यात्रा के मद्देनजर एक इंटरव्यू में यह बयान दिया। उनका रणनीतिक वार्ता के चौथे फेज के लिए सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से मुलाकात करने का कार्यक्रम है। अल-कादिमी ने कहा, इराक की सरजमीं पर विदेशी सेना की आवश्यकता नहीं है।

Gyan Dairy

इराक के प्रधानमंत्री मुस्तफा अल-कादिमी ने कहा कि अमेरिकी सेना की वापसी के लिए कोई समय सीमा नहीं बतायी। उन्होंने कहा कि इराकी सुरक्षाबल और सेना अमेरिका के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना के बिना देश की रक्षा करने में सक्षम हैं। हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि सेना की वापसी इराकी बलों की आवश्यकता पर निर्भर करेगी। उन्होंने कहा, ”इस्लामिक स्टेट के खिलाफ युद्ध और हमारी सेना की तैयारी को विशेष टाइमलाइन की जरूरत है और यह वाशिंगटन में होने वाली बातचीत पर निर्भर करेगा।”

Share