शराब की एक बोतल के लिए हुआ था महायुद्ध, झटके में गई 10 हजार लोगों की जान

नई दिल्ली। दुनिया में कभी सीमा विस्तार तो कभी महिलाओं के लिए कई युद्ध लड़े गए। कई बार तो केवल केवल हठ के लिए लाखों जानों की बलि दे दी गई। लेकिन एक लड़ाई तो सिर्फ शराब की एक बोतल के लिए लड़ी गई। इस लड़ाई में दस हजार लोगों की जान गई। यह लड़ाई आज से करीब 232 साल पहले लड़ी गई थी।

बताया जाता है कि यह लड़ाई आपस में सैनिकों के ईगो की लड़ाई थी। जिसमें 10 हजार लोग मारे गये थे। ये लड़ाई ‘बैटल ऑफ कैरनसीब्स’ के नाम से जानी जाती है। इतना ही नहीं इसे दुनिया का सबसे हसौड़ युद्ध यानी हास्यास्पद युद्ध भी कहते हैं।

यह 1788 की बात है जब 1 लाख ऑस्ट्रियाई योद्धा घुड़सवार एक शहर पर कब्जा जमाने के लिए निकले थे। 21 सितंबर की रात सैनिकों ने टिमिस नदी के पास पहुंचकर कैरनसीब्स को चारों तरफ से घेर लिया। उस वक्त ऑस्ट्रिया और तुर्की के बीच युद्ध जारी था। इन सैनिकों को तब नदी के आसपास तुर्की सैनिक नहीं दिखे लेकिन उन्हें एक रोमानी शिविर दिखाई दिया।

तभी रोमानी लोगों ने ऑस्ट्रियाई घुड़सवारों को देखकर उन्हें शराब ऑफर की। योद्धाओं ने शराब का ऑफर अपना लिया और आराम करने के लिए वो नदी किनारे ही बैठ कर शराब का आनंद लेने लगे तभी उनके सैनिक भी आ गये और जब उन्होंने शराब की मांग की तो घुड़सवारों ने उन्हें शराब देने से मना कर दिया।

Gyan Dairy

बस, इसी पर वो लोग भड़क गये और दोनों पक्ष आपस में भीड़ गये। तभी अचानक किसी सैनिक से गोली चल गई और फिर नदी की दूसरी तरफ सो रहे तुर्की सैनिकों को लगा की उन पर ऑस्ट्रिया ने हमला किया है। फिर क्या था दोनों तरफ से इसी गलतफहमी की वजह से जम कर गोलियां चली और इसमें काफी सैनिक मारे गये।

इस आपस की लड़ाई में जब सैनिकों का नेतृत्व कर रहे अधिकारी ने सैनिकों को रोकने की कोशिश की तो सैनिक इसे उलटा समझ बैठे और अपने ही साथियों को तोपों से उड़ाने लगे। वो मंजर बड़ा ही अजीब था जब गलतफहमी की वजह से एक गुट आपस में ही एक दूसरे के खून का प्यासा बन गया था। कहते हैं शराब नहीं मिली तो खून बहा दिया, काश शराब बह गई होती।

Share