आज भी शिव मंदिर की मूर्तियों को छूने से डरते हैं ग्रामीण, जानें वजह

shiv mandir

आज भी शिव मंदिर की मूर्तियों को छूने से डरते हैं ग्रामीण, जानें वजह

नई दिल्ली। हमारे देश में कई चमत्कारिक चीजें ऐसी हैं, जिनका रहस्य आज भी अनसुलझा है। छत्तीसगढ के जगदलपुर जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर इंद्रावती नदी के किनारे शिवमंदिर परिसर में बिखरी पडी 10वीं शताब्दी की मूर्तियों का भी ऐसा ही रहस्य है। छिंदगांव के ग्रामीण इन मूर्तियों को छूने से भी डरते हैं।

मान्यता है कि वहां के राजा ने 74 साल पहले उन्हें ऐसा करने से मना किया था। राजाज्ञा की वह तख्ती आज भी इस मंदिर परिसर में टंगी है। बस्तरवासी अपने राजाओं का आदर करते रहे हैं और आज भी उनके आदेशों का सम्मान करते हैं, चूंकि वे बस्तर राजा को ही अपनी आराध्या मां दंतेश्वरी का माटी पुजारी मानते हैं।

देश की आजादी के साथ ही 69 साल पहले रियासत कालीन व्यवस्था समाप्त हो गई है, लेकिन लोहंडीगुड़ा विकासखंड के ग्राम छिंदगांव के ग्रामीण आज भी 1942 में जारी राजाज्ञा का पालन कर रहे हैं। इंद्रावती किनारे स्थित छिंदगांव के गोरेश्वर महादेव मंदिर में पुराने शिवलिंग के अलावा भगवान नरसिंह, नटराज और माता कंकालिन की पुरानी मूर्तियां हैं।`

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *