बिहार में हर साल सजती है दूल्हों की बाजार, जानें हैरान करने वाली वजह

नई दिल्ली। बिहार में प्राचीन काल से ही ‘सौराठ सभा’ नामक दूल्हों का मेला लगता है। सौराठ सभा मधुबनी जिले के सौराठ नामक स्थान पर 22 बीघा जमीन पर लगती है। इसे ‘सभागाछी’ के रूप में भी जाना जाता है।

सौराठ में मैथिल ब्राह्मण दूल्हों का यह मेला हर साल ज्येष्ठ या अषाढ़ महीने में सात से 11 दिनों तक लगता है। इस मेले में कन्याओं के पिता योग्य वर को चुनकर अपने साथ ले जाते हैं। इस सभा में योग्य वर अपने पिता और अन्य अभिभावकों के साथ आते हैं। कन्या पक्ष के लोग वरों और उनके परिजनों से बातचीत कर एक-दूसरे के परिवार, कुल-खानदान के बारे में पूरी जानकारी इकत्रित करते हैं और दूल्हा पसंद आने पर रिश्ता तय कर लेते हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि करीब दो दशक पहले तक सौराठ सभा में अच्छी-खासी भीड़ दिखती थी, पर अब इसका आकर्षण कम होता दिख रहा है। उच्च शिक्षा प्राप्त वर इस हाट में बैठना पसंद नहीं करते। इस परंपरा का निर्वाह करने को आज का युवा वर्ग तैयार नहीं दिखता।

सौराठ सभा में पारंपरिक पंजीयकों (रजिस्ट्रार) की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। यहां जो रिश्ता तय होता है, उसे मान्यता पंजीयक ही देते हैं। कोर्ट मैरिज में जिस तरह की भूमिका दंडाधिकारी की है, वही भूमिका इस सभा में पंजीयकों की होती है। पंजीयक के पास वर और कन्या पक्ष की वंशावली रहती है। वे दोनों तरफ की सात पीढिय़ों के उतेढ़ (विवाह का रिकॉर्ड) का मिलान करते हैं। दोनों पक्षों के उतेढ़ देखने पर जब पुष्टि हो जाती है कि दोनों परिवारों के बीच सात पीढिय़ों में इससे पहले कोई वैवाहिक संबंध नहीं हुआ है, तब पंजीयक कहते हैं कि ‘अधिकार होइए’, यानी पहले से रक्त संबंध नहीं है, इसलिए रिश्ता पक्का करने में कोई हर्ज नहीं।

बताते हैं कि मैथिल ब्राह्मणों ने 700 साल पहले (करीब सन् 1310) में यह प्रथा शुरू की थी, ताकि विवाह संबंध अच्छे कुलों के बीच तय हो सके। सन् 1971 में यहां करीब डेढ़ लाख लोग आए थे। 1991 में भी करीब पचास हजार लोग आए थे, पर अब आगंतुकों की संख्या काफी घट गई है।

Gyan Dairy

मैथिल ब्राह्मण एक ही गोत्र व मूल में शादी नहीं करते। इनका मानना है कि अलग गोत्र में विवाह करने से संतान उत्तम कोटि की होती है। इस मेले में विभिन्न गोत्रों के ब्राह्मण एक साथ मौजूद होते हैं।

मिथिलांचल में प्रचीनकाल से ही वैवाहिक संबंधों के समुचित समाधान के लिए विवाह योग्य वर-वधू की एक वार्षिक सभा शुभ मुहुर्त के दिनों में लगाई जाती रही है। सौराठ सभा का उद्देश्य संबंधों की समाजिक शुचिता बनाए रखने के लिए समगोत्री विवाह को रोकना, दहेज-प्रथा का उन्मूलन तथा वर-वधू के सभी पक्षों को ध्यान में रखते हुए वैवाहिक सबंधों को स्वीकृति देना था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share