इस में दीपक की ज्योति से निकलता है केसर, जानें रहस्य

नई दिल्ली।हमारे देश में देवी-देवताओं के अनेक रहस्यमयी मंदिर हैं। ऐसा ही एक मंदिर मध्यप्रदेश में है जहां दीपक जलने पर केसर निकलता है। मध्यप्रदेश के मनासा शहर से लगभग तीन किलोमीटर दूरी पर अल्हेड में प्रसिद्ध आई जी माता मंदिर है।

इस मंदिर में पिछले 552 सालों से देशी घी की अखंड ज्योति जल रही है। इस ज्योति की खास बात यह है कि इससे केसर टपकता है। आमतौर पर देखा जाता है की जब भी कभी कोई दीपक जलता है तो उससे कालिमा निकलती है। लेकिन, इस मंदिर में दीपक में से केसर निकलता है जिसे भक्त अपनी आंखों में लगाते हैं। यह मंदिर काफी प्राचीन है भक्तों के अनुसार यहां माता आई थी इसलिए इस मंदिर को ‘आईजी माता’ के नाम से जाना जाता है।

भक्तों के अनुसार इस ज्योति के दर्शन मात्र से ही सभी बाधा दूर हो जाती हैं। करीब 1556 ईसवी में बने इस मंदिर में एक गद्दी है जिसकी पूजा भक्त सदियों से करते चले आ रहे हैं। यहां माता की मात्र तस्वीर है जो गद्दी पर विराजित हैं। आई जी माता के दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते है। लोगों का ऐसा मानना है कि ज्योत से टपकने वाली केसर लगाने से आंखों के रोग के साथ अन्य रोग भी खत्म हो जाते है। खास कर यहां नवरात्री में भक्तों का तांता लगा रहता है।

Gyan Dairy

मान्यता है कि दीवान वंशज के राजा माधव अचानक कहीं गायब हो गए थे और माता उन्हें ढूंढने निकली। राजा माधव माता को इसी गांव में मिले थे। तभी से मां इस मंदिर में विराजित है इस मंदिर के अंदर जलने वाला अखंड दीपक करीब 550 वर्षों से जल रहा है। लोगों का मानना है कि इस इस अखंड दीपक से निकले वाली लौ से निकलने वाला पदार्थ केसर है। मंदिर के पुजारी बताते है कि आज से 550 साल पहले आई जी माता ने स्वयं इस ज्योति को जलाया था। तभी से यह देशी घी की अखंड ज्योति जलती आ रही है।

Share