इस मंदिर में पूजा के लिए पुरुषों को करना पड़ता है सोलह श्रंगार, जानें रहस्य

नई दिल्ली। आपने सुना होगा कि हमारे देश के कई मंदिरों में महिलाओं को जाने की अनुमति नहीं होती। लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में एक मंदिर ऐसा भी है जहां पुरुषों को महिलाओं की तरह न केवल कपड़े पहनने पड़ते हैं बल्कि सोलह श्रंगार भी करने पड़ते हैं। तभी वह मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं।

जी हां केरल कोल्लम जिले के कोट्टनकुलंगरा श्रीदेवी मंदिर में देवी मां की पूजा की परम्परा वर्षों से चली आ रही है। हर साल इस मंदिर में एक उत्सव का आयोजन होता है। इस मंदिर में पूजा करने से पहले पुरुषों को भी महिलाओं की तरह सोलह श्रृंगार करना आवश्यक होता है। कोट्टनकुलंगरा श्रीदेवी मंदिर में हर साल 23 और 24 मार्च को चाम्याविलक्कू उत्सव मनाया जाता है। इस अनूठे उत्सव में पुरुष भी महिलाओं की तरह साड़ी पहनकर सजते-संवरते हैं और पूरे सोलह श्रृंगार करने के बाद माता की आराधना करते हैं। सोलह श्रृंगार करने के बाद पुरुष अच्छी नौकरी, सेहत और अपने परिवार की खुशहाली की प्रार्थना करते हैं। इस खास तरह की पूजा के चलते यह उत्सव आज देश के साथ ही पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो रहा है।

मान्यता है कि इस मंदिर में देवी मां की मूर्ति खुद प्रकट हुई है। सबसे खास बात यह है कि यह इस राज्य का ऐसा एकमात्र मंदिर है जिसके गर्भगृह के ऊपर छत या कलश नहीं है। बताया जाता है कि सालों पहले इस जगह कुछ चरवाहों ने महिलाओं की तरह कपड़े पहनकर पत्थर पर फूल चढ़ाए थे। इसके बाद पत्थर से दिव्य शक्ति निकलने लगी। बाद में इसे एक मंदिर का रूप दिया गया। ये परम्परा हजारों साल पुरानी है।

Gyan Dairy

वहीं दूसरी मान्यता है कि कुछ लोग इस पत्थर पर मारकर नारियल फोड़ रहे थे, इसी दौरान पत्थर से खून बहने लगा। बाद में लोग यहां पूजा करने लगे। तीसरी मान्यता है कि मंदिर के अंदर मौजूद देवी की प्रतिमा हर साल आकार में कुछ इंच बड़ी हो जाती है।

Share