हस्तरेखा शास्त्र: महिलाओं की हथेली पर बने ये चिन्ह बताते हैं कैसा होगा पति का भविष्‍य

नई दिल्ली। आपने बुजुर्गों से सुना ही होगा क‍ि पति-पत्‍नी का भाग्‍य एक-दूसरे से जुड़ा होता है। धर्म के मुताबिक दोनों को ही एक-दूसरे के कर्मों का फल मिलता है। यह अच्‍छा और खराब दोनों ही हो सकता है। कई बार लड़का-लड़की की कुंडली मिलाते समय विद्वानजन बताते हैं क‍ि लड़की का भाग्‍य उसके पति के लिए काफी अच्‍छा है। ग्रहों की इस गणना के अलावा हस्‍तरेखा शास्‍त्र में भी हथेली पर बनी कुछ आक‍ृतियों के जरिए होने वाले पति का भाग्‍य बताया जाता है। आइए जानते हैं कैसे?

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक अगर क‍िसी युवती के हाथ में ध्‍वज या फिर रथ का च‍िह्न हो तो यह अत्‍यंत ही शुभ संकेत होता है। कहते हैं क‍ि यह निशान बताता है क‍ि युवती का पति उच्‍चाधिकारी होगा। इसके साथ ही शादी के बाद वह द‍िन-ब-द‍िन और भी तरक्‍की करेगा।

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के अनुसार अगर किसी युवती की हथेली गुलाबी या लालिमायुक्त हो। या फिर हस्तरेखाएं मिलकर स्वास्तिक जैसा चिह्न बनाती हों तो उसके पति को कभी भी आर्थिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता। उसके जीवन में आमदनी के कई स्रोत होते हैं।

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक अगर क‍िसी युवती की हथेली में कमल या फिर मछली की आकृति बनी हो तो यह बेहद शुभ होता है। यह चिह्न बताता है क‍ि उस युवती का भविष्य काफी उज्‍ज्‍वल है। साथ ही उसके पति को भी जीवन में कभी सुख-सुव‍िधा की कमी नहीं होगी।

Gyan Dairy

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के अनुसार यदि किसी युवती की दायीं हथेली में तराजू हो और बायीं हथेली में बैल या हाथी जैसी आकृति हो तो यह बहुत शुभ संकेत है। इसका अर्थ यह है कि उसका पति बहुत बड़ा व्यापारी होगा। उसे व्‍यवसाय में कभी भी हान‍ि का सामना नहीं करना पड़ता है। पत्‍नी के भाग्‍य से वह द‍िन दूनी चार चौगुनी तरक्‍की करता है।

हस्‍तरेखा शास्‍त्र के मुताबिक यदि किसी युवती की हथेली के बीचों बीच त्रिभुज या धनुष जैसी आकृति हो तो वह बहुत शुभ फलदायक होती है। कहा जाता है क‍ि ऐसी युवती का पति काफी समझदार और पति का खास ख्याल रखने वाला होता है। इन्‍हें र‍िश्‍तों में बैलंस करना काफी अच्‍छे से आता है। यही वजह है क‍ि इनके जीवन में कभी भी क‍िसी भी सुख की कमी नहीं होती।

Share