इस देश के लोग पीते है जहरीले कोबरा का खून, वजह जानकार रह जाएंगे हैरान

नई दिल्ली। एक पुरानी कहावत है, “सांप का डसा पानी तक नहीं मांगता है।” इस लाइन को आप बखूबी समझ गए होंगे की सांप अगर किसी को कांट ले तो वो तुरंत मर जाता है। सांप से जुड़ी आज हम आपको एक ऐसी बात बताने जा रहें हैं जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। आपने ये तो सुना ही होगा की लोग सांपों को मारकर खाते तो हैं लेकिन क्या आपने ये सुना है की अपनी सेहत को तंदरुस्त रखने के लिए लोग सांपों का खून भी पीते हैं। असल में दुनिया में एक ऐसा देश भी है जहां के लोग चाय-कॉफी की जगह जहरीले कोबरा का खून पीते है।

सांप एक ऐसा जीव है जो अन्य जींवों से सबसे खतरनाक जींव माना जाता है। सांपों की प्राणी में कोबरा नाम का सांप भी पाया जाता है जो सबसे जहरीला होता है। लेकिन इस जहरीले कोबरा से इंडोनेशिया के लोग नहीं डरते हैं, बल्कि बड़े शौक के साथ सांपों से बनी डिश खाते भी हैं और उसका खून भी पीते हैं। किसी भी जीव जंतु का खून पीना ये सोच कर ही मन अजीब सा हो जाता है। पर ये सच है भूत-चुड़ैल और जानवरों के अलावा अब इंसान भी खून पीने लगें हैं।

बता दें कि इस जहरीले कोबरा का खून पीने का अनोखा चलन इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में होता है। इस वजह से यहां के ज्यादातर क्षेत्रों में कोबरा का खून निकालकर बेचा जाता है। यहां के लोग कोबरा का खून ऐसे स्वाद लेकर पीते हैं जैसे कॉफी या चाय पी रहें हों।

Gyan Dairy

यहां के पुरुष का मानना है कि कोबरा का खून सेहत को दुरुस्त करने के लिए पिया जाता हैं, तो वहीं महिलाएं का मानना है कि वो अपनी त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए कोबरा का खून पीती है। महिलाएं कहती है कि “कोबरा का खून पीने से त्वचा चमकदार होती है।”

खून पीने के इस की बढ़ती डिमांड को देखते हुए यहां के दुकानदार हर रोज हजारों सांपों को काटकर उनका खून बेचते है। यहां के दुकानदार शाम के 5 बजे से अपना काम शुरू करते है और रात 1 बजे खून बेचने का ये काम बंद कर देते हैं। दूकानदारों का कहना है कि कोबरा का खून पीने के 3-4 घंटे बाद तक लोगों को चाय-कॉफी नहीं पीनी चाहिए। वरना खून शरीर में अपना काम ठीक से नहीं कर सकेगा। वहीं, दुकानदार एक रात में कोबरा का खून बेचकर 5 से 10 लाख रुपए कमा लेते हैं।

Share