इन देशों के पास नहीं है अपनी कोई सेना, ऐसे करते हैं अपनी सुरक्षा

नई दिल्ली। हर देश में सीमाओं की सुरक्षा के लिए अपनी सेना होती है। आंतरिक सुरक्षा का जिम्मा पुलिस के पास होता है। हालांकि आज हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे देशों के बारे में जिनके पास अपनी कोई सेना नहीं है। इन देशों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सेना नहीं बल्कि दूसरे देश की पुलिस और सेना संभालती है।

वैटिकन सिटी
वैटिकन शहर यूरोप महाद्वीप में स्थित एक देश है। पृथ्वी पर सबसे छोटा, स्वतंत्र देश है, जिसका क्षेत्रफल केवल 44 हेक्टेयर है। यह इटली के शहर रोम के अन्दर स्थित है। इसकी राजभाषा है लातिनी। ईसाई धर्म के प्रमुख साम्प्रदाय रोमन कैथोलिक चर्च का यही केन्द्र है और इस सम्प्रदाय के सर्वोच्च धर्मगुरु पोप का यही निवास है। वैटिकन सिटी के पास अपनी कोई आर्मी नहीं है। कुछ सालों पहले कोई नोबल गार्ड हुआ करते थे। लेकिन वर्ष 1970 में इस संस्था को ध्वस्त कर दिया गया। इस देश की सुरक्षा इतालवी सेना करती है।

मोनैको
फ़्रांस और इटली के बीच स्थित मोनैको दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है। इसका मुख्य कस्बा है मॉन्टे कार्लो। यहाँ दुनिया के किसी भी देश से ज़्यादा प्रतिव्यक्ति करोड़पति हैं। यहां 17वीं शताब्दी से ही किसी तरह की कोई सेना नहीं है। हालांकि ये छोटी-छोटी फौजी टुकड़ियां है। फ्रांस की सेना इसे सुरक्षा प्रदान करती है।

Gyan Dairy

मॉरीशस
मॉरीशस गणराज्य, अफ्रीकी महाद्वीप के तट के दक्षिणपूर्व में लगभग 900 किलोमीटर की दूरी पर हिंद महासागर में और मेडागास्कर के पूर्व में स्थित एक द्वीपीय देश है। मॉरीशस द्वीप के अतिरिक्त इस गणराज्य मे, सेंट ब्रेंडन, रॉड्रीगज़ और अगालेगा द्वीप भी शामिल हैं।
मॉरीशस देश में वर्ष 1968 से ही किसी तरह की कोई सेना नहीं है। हालांकि यहां 10 हजार पुलिस कर्मी हैं, जो आंतरिक और बाहरी दोनों तरह की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालते हैं।

आइसलैंड
आइसलैण्ड या आइसलैण्ड गणराज्य उत्तर पश्चिमी यूरोप में उत्तरी अटलांटिक में ग्रीनलैंड, फ़रो द्वीप समूह और नार्वे के मध्य बसा एक द्विपीय देश है। यूरोप के दूसरे सबसे बड़े द्वीप में आइसलैंड आता है। आइसलैंड खूबसूरती के मामले में बहुत अच्छा देश है। यहां पर वर्ष 1869 से ही कोई सेना नहीं है। ये देश नाटो का सदस्य है और इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी अमेरिका की है।

Share