UA-128663252-1

बीयर की खाली बोतलों से बना है ये अनोखा मंदिर, जानें खासियत

नई दिल्ली। भगवान बुद्ध को बौद्ध धर्म का प्रवर्तक माना जाता है। बौद्ध धर्म में पुजारी यानी पूजा करने वालों को भिक्षुक कहा जाता है। भिक्षुक काफी कठिन तरीके से अपना जीवन यापन करते है। शराब या बीयर को बौद्ध धर्म में पूरी तरह से वर्जित माना गया है। लेकिन क्या आप जानते हैं थाईलैंड के सिसाकेट प्रांत में बीयर की हजारों बोतलों से एक मंदिर बनाया गया है। खास बात यह है कि इस मंदिर को बौद्ध भिक्षुओं ने बनवाया है।

इस मंदिर को वाट प महा चेदि खेव नाम से जाना जाता है, आपको बता दें कि इस मंदिर को बनाने में करीब 10 लाख बोतलों का इस्तेमाल किया गया है। यहां की दीवारों पर बोतलों से सुंदर कलाकृतियां बनाई गई हैं जो देखने में बहुत खूबसूरत लगती हैं।
अलग-अलग रंगों की बोतलों से बना यह मंदिर पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है, जब भी कोई थाईलैंड घूमने के लिए आता है तो इस मंदिर में जाना नहीं भूलता है।

Gyan Dairy
Share