महिलाएं इस वजह से सिर पर रखती हैं चोटी (Head braid), जानें असल वजह

नई दिल्ली। हमारे देश में वैदिक काल से ही बहुत सारी परंपराएं और रीति रिवाज आज भी पालन किए जाते हैं। इनमें स्त्री और पुरुषों में सिर पर चोटी (Head braid) रखने का रिवाज भी शामिल है। आज के दौर में पुरुषों ने तो चोटी रखना कम कर दिया है लेकिन अधिकांश महिलायें अभी भी चोटी बांधती हैं। आज हम आपको सिर पर चोटी रखने के वैज्ञानिक और धार्मिक (Religious) कारण बताएंगे।

वैज्ञानिकों का दावा है कि सिर के जिस स्थान पर चोटी बाँधी जाती है वह स्थान मस्तिष्क के नियंत्रण का केंद्र है। हमारे मस्तिष्क का नियंत्रण इसी जगह से होता है। ऐसे में चोटी बांधना एकाग्रता का प्रमुख कारण है।

शास्त्रों के अनुसार बिना चोटी के कोई भी धार्मिक कार्य पूर्ण नहीं माना जाता है चोटी व्यक्ति के ज्ञान का प्रतीक होती है। साथ ही व्यक्ति की चोटी उसकी बुद्धि को भी नियंत्रित करती है।

Gyan Dairy

दरअसल, पुरूषों की अपेक्षा स्त्रियों का मस्तिष्क अधिक संवेदनशील होता है। इस वजह से वातावरण में व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बहुत जल्दी स्त्रियों पर होता है। स्त्रियों की चोटी इस नकारात्मक ऊर्जा से उनकी रक्षा करती है।

व्यक्ति का मस्तिष्क दो भागों से मिलकर बना होता है और जिस स्थान पर दोनों भाग आपस में जुड़े होते है वह स्थान बहुत अधिक सवेदनशील होता है। इस स्थान को अधिक ठण्ड या गर्मी के प्रभाव से सुरक्षित रखने के लिए सिर की चोटी बहुत कारगर होती है।

Share